Parvat Mala Yojana 2022 | पर्वतमाला योजना क्या है जाने

Parvat Mala yojana | पर्वतमाला योजना |
Parvat Mala scheme राष्ट्रीय रोपवे विकास कार्यक्रम | Parvat Mala yojana in hindi

 

Parvat Mala Scheme 2022: हेलो दोस्तो आपका स्वगात है एक बार फिर से हमारी वेबसाइट indiasevak.com में आज हम सरकार की एक नई योजना राष्ट्रीय रोपवे विकास कार्यक्रम की जानकारी की बात करेंगे और विस्तार से पर्वतमाला योजना के बारे में जानेंगे।

Parvat Mala Scheme – केंद्रीय वित्त मंत्री द्वारा वर्ष 2022-23 के लिए केंद्रीय बजट में पहाड़ी क्षेत्रों में संपर्क-सुविधा में सुधार हेतु सरकारी-निजी भागीदारी- के आधार पर राष्ट्रीय रोपवे विकास कार्यक्रम – “पर्वतमाला” (Parvat mala yojana) परियोजना की घोषणा की गई थी।

दोस्तो इस योजना के बारे में हम विस्तार से बतायेंगे आप पोस्ट को लास्ट तक जरूर पढ़ें और शेयर भी कर दे।

Parvat Mala Scheme kya hai ?

केंद्रीय वित्त मंत्री जी ने दुर्गम पहाड़ी क्षेत्रों  में सुधार के साथ-साथ सरकारी एवं निजी भागीदारी के आधार पर राष्ट्रीय रोपवे विकास कार्यक्रम पर्वतमाला योजना की घोषणा की गई है। पर्वतमाला योजना को पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप (PPP) प्रणाली में शुरू किया जाएगा। पर्वतमाला योजना में भीड़भाड़ वाले शहरी क्षेत्रों को भी शामिल किया जा सकता है जहां पर पारंपरिक जन परिवहन प्रणाली संभव नहीं है अर्थात जिन स्थानों पर सड़क निर्माण कार्यों को आसानी से नहीं कर सकते हैं।

पर्वतमाला योजना से पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा तथा इसके साथ-साथ यात्रियों के लिए  सुविधा में बेहतर सुधार होगा। 

पर्वतमाला योजना किन राज्यों में शुरू होगी

यह परियोजना वर्तमान में उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, मणिपुर, जम्मू-कश्मीर और अन्य पूर्वोत्तर राज्यों जैसे क्षेत्रों में शुरू की जा रही है।

Parvat Mala yojana का उद्देश्य

Parvat Mala yojana

केंद्रीय वित्त मंत्री जी ने बजट 2022-23 प्रस्तुत करते समय पर्वतमाला योजना के उद्देश्य के बारे में बताया । पर्वतमाला योजना से उत्तराखंड राज्य के दुर्गम पहाड़ी क्षेत्रों में पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा तथा इसके साथ-साथ यात्रियों के संपर्क और सुविधा में सुधार किया जाएगा। पर्वतमाला योजना उत्तराखंड राज्य के साथ-साथ देश के अन्य हिमालय राज्यों जैसे हिमाचल प्रदेश, मणिपुर, जम्मू कश्मीर तथा पूर्वोत्तर राज्यों में इस योजना को शुरू करने का उद्देश्य है।

  • यह एक ऐसी योजना है जिसके अंतर्गत पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप को और भी मजबूत किया जाएगा।
  • इसके अंतर्गत पहाड़ी क्षेत्रों के उन दुर्गम स्थानों में बेहतर कनेक्टिविटी प्रदान की जाएगी जो अभी तक सामान्य लोगों से काफी दूर थी।
  • इस योजना के अंतर्गत पारंपरिक सड़कों के स्थान पर एक पसंदीदा परिस्थितिकी रूप से स्थाई विकल्प मौजूद कराने का होगा।
  • केंद्रीय बजट के अंतर्गत प्रस्तुत किए गएयोजना से पर्यटन को बढ़ावा देने के अतिरिक्त यात्रियों के लिए सुविधा और कनेक्टिविटी में सुधार करने पर विचार किया जा रहा है।
  • इस योजना के आ जाने से भीड़भाड़ वाले शहरी इलाकों को भीड़ मुक्त किया जा सकता है।इससे यह फायदा होगा कि सभी स्थानों पर पारंपरिक जन परिवहन प्रणाली भी उपलब्ध हो जाएगी।
  • Parvatmala Scheme योजना का फायदा वर्तमान में उत्तराखंड, जम्मू और कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, मणिपुर और अन्य पूर्वोत्तर राज्यों जैसे क्षेत्रों में शुरू की जाएगी।
  • वित्त मंत्री के द्वारा प्रस्तुत किए गए इस बजट में 60 किलोमीटर की लंबाई के लिए आठ रोपवे परियोजनाओं के ठेके दिए जाएंगे। जिससे पहाड़ी इलाकों में पर्यटन और आवागमन की सुविधा सरल हो जाएगी।

Kayakalp Yojana 2022: कायाकल्प योजना क्या है कैसे मिलेगा लाभ

Agnipath Pravesh Yojana 2022: अग्निपथ योजना के तहत सेना भर्ती

 

National Ropeways Development Program के लाभ क्या है

  • National Ropeways Development Program से परिवहन में तीव्रता आएगी।
  • परिवहन के हवाई मोड तथा सड़क मार्ग परियोजनाओं की तुलना में रोपवे बहुत ही फायदेमंद है क्योंकि पहाड़ी इलाके में एक ही सीधी रेखा में रोपवे का निर्माण आसानी से किया जा सकता है।
  • उत्तराखंड पहाड़ी राज्यों के इलाके में सीधी रेखा में रोपवे के निर्माण की परियोजना बनाई गई हैं इससे भूमि अधि ग्रहण की लागत भी कम होती है। इसलिए रोडवेज की तुलना में प्रति किलोमीटर निर्माण की लागत से रोपवे परियोजनाओं के निर्माण की लागत अधिक किफायती हो सकती है।
  • पर्वतमाला योजना के तहत पर्यावरण को लाभ मिलेगा ।रोपवे के निर्माण होने से कम धूल उत्सर्जन होगा साथ ही इससे संबंधित सामग्री के कंटेनरौ को इस तरह से डिजाइन किया जा सकता है जिससे पर्यावरण को किसी भी तरह की गंदगी से बचाया जा सके।
  • पर्वतमाला योजना के तहत लंबी रोप स्पैन के सिस्टम में बिना किसी समस्या के नदियों, इमारतों, गड्ढों और सड़कों जैसी बाधाओं को आसानी से पार किया जा सकता है।
  • राष्ट्रीय रोपवे में विकास के कार्यक्रम के तहत टावरों पर निर्देशित रस्सियों को जमीन पर कम जगह की आवश्यकता होती है जिससे भूमि अधिग्रहण जैसी समस्याओं का सामना नहीं करना पड़ेगा।
  • पर्वतमाला योजना से आर्थिक लाभ भी प्राप्त होगा इससे निर्माण एवं रखरखाव दोनों की लागत में कमी आती है तथा रोपवे में एकल ऑपरेटर में प्रयोग से श्रम लागत में भी कमी आएगी।

नोडल मंत्रालय पर्वतमाला योजना के 

  • सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय (MORTH) रोपवे और वैकल्पिक गतिशीलता समाधान प्रौद्योगिकी विकास के साथ-साथ इस क्षेत्र में निर्माण, अनुसंधान और नीति का प्रभारी होगा।
  • भारत सरकार (व्यवसाय का आवंटन) नियम 1961 को फरवरी 2021 में संशोधित किया गया था, जिससे MORTH को रोपवे और वैकल्पिक गतिशीलता समाधानों के विकास की भी निगरानी करने की अनुमति मिली।
  • इस कदम से इस क्षेत्र को एक नियामक व्यवस्था स्थापित करने में मदद मिलेगी।
  • अब तक, एमओआरटीएच राजमार्गों के विकास और देश के सड़क परिवहन क्षेत्र को विनियमित करने के लिए जिम्मेदार रहा है। 

निष्कर्ष:-

स्पष्ट है कि पर्वतमाला योजना से देश के इंफ्रास्ट्रक्चर में काफी परिवर्तन होगा जो देश के विकास को तीव्र गति से बढ़ाने में सहयोग प्रदान करेगी। पर्वतमाला योजना से देश के हिमालयी पहाड़ी राज्यों का संपर्क शेष देश से हो सकेगा । इस योजना के माध्यम से पर्वती क्षेत्रों में रहने वाले नागरिकों को आवागमन की सुविधा प्राप्त होगी, पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा तथा स्थानीय रोजगार को बढ़ने के साथ-साथ रोजगार के दिनों में भी बढ़ोतरी होगी। अतः पर्वतमाला योजना उत्तर पूर्वी राज्यों के विकास में क्रांतिकारी साबित होगी।

आपने इस लेख में जाना कि पर्वतमाला योजना क्या है तथा इसके उद्देश्य एवं लाभ क्या है यदि आपको यह जानकारी पसंद आई है तो आप कमेंट बॉक्स में अपना सुझाव अवश्य दें यदि इसके अतिरिक्त पर्वतमाला योजना से संबंधित कुछ भी जानना चाहते हैं तो कमेंट बॉक्स में जरूर पूछें। आपके प्रश्नों के जवाब जरूर दिये जाएगें ।

यह भी पढ़ें:-

Mukhyamantri Nirogi Rajasthan scheme: मुख्यमंत्री निशुल्क निरोगी योजना 2022

Rajasthan Free Mobile Yojana 2022 राजस्थान फ्री मोबाइल लिस्ट जारी

FAQ

प्रश्न पर्वतमाला योजना क्या है

उत्तर- पर्वतमाला योजना से दुर्गम पहाड़ी क्षेत्रों में कनेक्टिविटी में सुधार के लिए राष्ट्रीय रोपवे विकास कार्यक्रम- पर्वतमाला योजना की घोषणा की गई है।

प्रश्न- पर्वतमाला योजना को किन किन राज्यों मे शुरू की जा रही है

उत्तर- पर्वतमाला योजना को उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश, मणिपुर, जम्मू कश्मीर अन्य पूर्वोत्तर राज्यों में शुरू की जा रही है।

प्रश्न- पर्वतमाला योजना का उद्देश्य क्या है

उत्तर- पर्वतमाला योजना का उद्देश्य परिवहन क्षेत्र में तीव्रता लाना , पर्यावरण में प्रदूषण को मुक्त करना एवं अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देना है।

शेयर करें

Leave a Comment